Latest Post

SWARAN SINGH COMMITTEE. #Fundamentalduties OBJECTIVE SCIENCE QUIZ FOR ALL COMPETITION SERISE 44

. इनमें से कौन पारिस्थितिकी तंत्र का जैविक संघटक नहीं है?

Correct! Wrong!

जलवायु पारिस्थितिकी का जैविक नहीं बल्कि अजैविक घटक है। जैविक घटक-पादप और जन्तुओं को मिलाकर जैविक घटक बनते हैं। पारिस्थितिकी तंत्र के जैविक घटकों को पुनः निम्नलिखित उपभाग में विभाजित किया जाता है (a) उत्पादक अपने भोजन का निर्माण स्वयं करते हैं। इसके अन्तर्गत सभी हरे पेड़-पौधे आते है। (b) उपभोक्ता- ये भोजन के लिए उत्पादक पर निर्भर होते हैं। उपभोक्ताओं को निम्न श्रेणी में रखा गया है - (i) प्राथमिक उपभोक्ता ये अपना भोजन सीधे उत्पादक से प्राप्त करते है। ये शाकाहारी होते है। गाय बकरी इत्यादि (ii) द्वितीय उपभोक्ता ये अपना भोजन प्राथमिक उपभोक्ता से प्राप्त करते हैं। उदा.- चूहे का बिल्ली द्वारा भक्षण (ii)तृतीयक उपभोक्ता - ये अपना भोजन द्वितीयक उपभोक्ता से प्राप्त करते हैं। (c) अपघटक ये अपना भोजन उत्पादक तथा उपभोक्ता के मृत शरीर से प्राप्त करते हैं।

2. प्रकृति के cleaners इनमें से कौन हैं? RRB SSE (21.12.2014, Set-07, Yellow paper) |

Correct! Wrong!

Ans. (c) विघटक या अपघटक प्रकृति के 'Cleaners' (सफाईकर्मी) कहलाते है क्योंकि ये सूक्ष्मजीव (जीवाणु, विषाणु, कवक, प्रोटोजोआ) है जो मृत पौधे तथा उपभोक्ताओं के मृत शरीर के जटिल कार्बनिक यौगिक को साधारण यौगिकों में अपघटित कर देते है। अपघटन एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है क्योंकि यह एक मृतोपजीवी परिस्थितिकी तंत्र में जैविक सामग्री को पुनर्नवीनीकरण करने की अनुमति देता है।

3. निम्न में से कौन सा सर्वाहारी नहीं है?

Correct! Wrong!

Ans. (d) साँप सर्वाहारी प्राणी नहीं है यह एक मांसाहारी जन्तु है। मांसाहारी में वे जन्तु शामिल होते हैं, जो सिर्फ माँस का सेवन करते हैं जैसे- शेर, चीता, बाघ आदि। सर्वाहारी में वे प्राणी शामिल होते हैं, जो मांसाहारी और शाकाहारी दोनों भोजन लेते हैं। जैसे- मानव, भालू, चूहा, चींटी आदि। शाकाहारी वे जन्तु होते हैं, जो पेड़ पौधे को खाते हैं जैसे- गाय, घोड़ा आदि।

4. निम्नलिखित में से खाद्य श्रृंखला (फूड चेन) का दूसरा पौष्टिक स्तर (trophic level) क्या है?

Correct! Wrong!

Ans. (b) खाद्य श्रृंखला (फूड चेन) का दूसरा पौष्टिक स्तर (Trophic level) चूहा है। उत्पादक वे होते हैं जो अपना भोजन स्वयं बनाते हैं जैस-पेड़, पौधे। प्राथमिक उपभोक्ता (शाकाहारी) वे होते हैं जो उत्पादकों पर निर्भर रहते हैं जैसे- गाय, भैंस, चूहा आदि। द्वितीय उपभोक्ता (मांसाहारी) के अन्तर्गत वे जीव-जन्तु आते हैं, जो प्रथम श्रेणी के उपभोक्ता पर निर्भर रहते हैं। जैसे- शेर, बाघ आदि। कौन हैं?

5. उपयुक्त खाद्य श्रृंखला इनमें से

Correct! Wrong!

6. प्राथमिक उपभोक्ता कौन है?

Correct! Wrong!

7. मिट्टी के प्रदूषक जो सूक्ष्मजीवों को और पौधों को मारकर खाद्य श्रृंखला और खाद्य वेब् को प्रभावित करते हैं, कहलाते हैं.........

Correct! Wrong!

10. खाद्य श्रृंखला में प्राथमिक उपभोक्ता और माध्यमिक उपभोक्ता के बीच अन्तर क्या है?

Correct! Wrong!

Ans. (a) खाद्य श्रृंखला में प्राथमिक उपभोक्ता और माध्यमिक उपभोक्ता के बीच अन्तर यह है कि प्राथमिक उपभोक्ता पौधे खाते हैं। और अन्य उपभोक्ता, माध्यमिक उपभोक्ता और विघटित पदार्थ खाते हैं विघटनकारी, जो पदार्थ के सड़ने पर ही भोजन करते हैं जैसेबैक्टीरिया। यह विघटनकारी प्रक्रिया में तेजी लाते हैं।

11. इकोटोन (Ecotone) का अर्थ क्या होता है?

Correct! Wrong!

(a) एक इकोटोन (Ecotone) दो बायोम के बीच एक संक्रमण क्षेत्र है।

पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) की संकल्पना को किसने परिभाषित किया था? 7

Correct! Wrong!

Ans. (a) पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) की संकल्पना को आर्थर टांसले (Arthur Tansley) ने परिभाषित किया था। सभी जीव अपने वातावरण के साथ एक विशिष्ट तंत्र का निर्माण करते है जिसे पारिस्थितिकी तंत्र कहते है। जीवों और वातावरण के इस पारस्परिक ने संबंध को पारिस्थितिकी कहा जाता है। पारिस्थितिकी तंत्र के तीन मुख्य घटक होते हैं -- (1) ऊर्जा संघटक (2) जैविक (बायोम) संघटक (3) अजैविक या भौतिक संघटक (स्थल, जलवायु)

13. एक्वेरियम (Aquarium) एक ऐसा पात्र है जिसमें जीवित मछलियाँ और जलीय पौधों को रखा जाता है। निम्न में से क्या एक्वेरियम के विषय में सही है

Correct! Wrong!

Ans. (a) एक्वेरियम (Aquarium) एक ऐसा पात्र है, जिसमें जीवित मछलियाँ और जलीय पौधों को रखा जाता है। यह मानव द्वारा निर्मित पारिस्थितिक तंत्र है, ये मुख्यतः मछलियों को पालने और देखने के काम में आता है।

14.पशुओं की प्रजातियां ज्यादातर........ लुप्तप्राय हो रही है।

Correct! Wrong!

Ans. (a) पशुओं की ज्यादातर प्रजातियाँ आवास विखण्डन के कारण विलुप्त हो रही है। प्रकृति में विभिन्न जातियों के जीवों का मरना एवं उनके स्थान पर अन्य नवीन जातियों का उद्भव एक सतत् प्रक्रिया है। विगत शताब्दी में पारिस्थितिकी तंत्र पर मानवीय प्रभाव ने जीवों के विलोपन की इस दर को बढ़ाया है। वर्तमान में प्रतिवर्ष सौ से लेकर हजार तक विविध जीवों की जातियाँ एवं उपजातियाँ विलुप्त हो रही है।

Correct! Wrong!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!